Thursday, 8 June 2017

यादें दोस्ती की : एक सहपाठी


Image may contain: one or more people, people standing, sky, twilight, cloud, ocean, outdoor and nature

तेरे साथ नहीं अब सालों से,
पर तू दूर नहीं कभी ख्यालों से,
तू है बचपन की सखी-सहेली
बुझाई है साथ, बहुत पहेली


क्या दिन थे , जब हम बच्चे थे
थोड़े अक्ल के कच्चे थे
फिर भी दिल के सच्चे थे।
चल आज मिलें उस बचपन को,
कहें, रुक आने दे पचपन को
चल मिलें उन हँसते चहरों को,
चल मिले उन ठहाकों की लेहरों को।।


चल बैडमिंटन कोर्ट में, मुझसे इक बार हार के दिखा
चल खेले ping- pong फिर से,
और हर बार मुझसे जीत जा,
फिर बन जा मेरी डबल्स की पार्टनर,
सिंगल में मुझे cheer-up करा
चल ground के चार चक्कर लगा
चल थोड़ा warm-up होजा,
चल आज फिर से hooting करें,
GTB per shooting करें
फिर होजाये आमना-सामना ,
चल आज stage पर debate करें
या फिर कोई duet करें
चल फिर से compitition fight करे ,
एक -दो-एक, left right करें
चल आज फिर से camping करें,
स्कूल में long jumping करें
उसकी चुगली टीचर से करे,
चल इसकी कानाफूसी करें,
चल फिर से एक सेटिंग करें
वो किसकी होगी, betting करे
चल exam की तैयारी tight करे
सब कुछ एकदम set right करे
चल कुछ IMP share करे,
वो  sweet pain bare करे
चल फिर आज उसको roste kare
और एक दूजे को boost करे
चल आज मिलें उस बचपन को,
कह दे, रुक जा उस पचपन को।

School Days 2002-03